Sunday, September 13, 2015

चरवाहा और बुद्धिमान व्यक्ति

एक चरवाहा जो की लगभग बीस साल का था | थककर एक गाँव के बाहरी इलाके मैं एक पेड़ के नीचे आराम कर रहा था | उसके पास से एक बुद्धिमान व्यक्ति गुजर रहा था जो की अपनी जिंदगी मैं ठोकर खाया हुआ था |
बुद्धिमान व्यक्ति ने चरवाहे से पूछा -: आप यहाँ क्या कर रहे हो ?
चरवाहा -: कुछ भी नही ! मैं सिर्फ आराम कर रहा हूँ !
बुद्धिमान व्यक्ति चरवाहा से – : हो सकता है की तुम्हे मेरा कहा गलत लगे लेकिन तुम यहाँ आराम करके अपना समय बर्बाद कर रहे हो | तुम कुछ भी नही कर रहे हो | और मुझे लगता है की तुमने अपने आप को लक्ष्यहीन आवारा बना लिया है | शायद तुम इस बात को नही समझ रहे हो की तुम अपने जीवन का एक महत्वपूर्ण अनमोल समय बर्बाद कर रहे हो और तुम्हे समय की कीमत नही मालूम | मेरी बात मानो तो तुम इस गरीबी से निजात पा सकते हो | इस आराम के समय को छोडकर तुम कड़ी मेहनत करो और अपने सपने और जूनून का पीछा करो और उसको पाने के लिए हर संभव प्रयास करो |
चरवाहा -: कड़ी मेहनत और सपनो का पीछा करने से क्या होगा ?
बुद्धिमान व्यक्ति -: मेरे बेटे ,इसके द्वारा तुम खूब सारा धन कमा सकते हो और एक महल का निर्माण कर सकते हो, ढेर सारा धन एकत्र कर सकते हो और जो भी सपने तुमने अपने जीवन मैं देखे है उन्हें पूरा कर सकते हो | और इसके द्वारा तुम लोग की मदद करने के साथ साथ अपने जीवन को सफल बना सकते हो |
चरवाहा -: तो इससे क्या होगा ?
बुद्धिमान व्यक्ति -: तो फिर तुम इससे अपना जीवन खुशी और आराम से बिता सकते हो |
चरवाहा -: लेकिन …मैं ऐसा क्यों सोचूँ और इतने दूर की सोच क्यों रखूँ और अपने आप को अधिक मेहनत के लिए क्यों प्रोत्साहित करूँ जबकि मैं अपने इस जिंदगी से ही बहुत खुश हूँ |
सीख -: 

1. अधिकतर प्रेरणा हर किसी को प्रभावित नही कर सकती और यह हर मनुष्य को कुछ नया और जिंदगी मैं सफल होने के लिए प्रेरित नही कर सकती वही जो व्यक्ति इसका अनुसरण करते है वह जिंदगी मैं सफल होते है | लेकिन शर्त केवल एक है आपको बताये गए नियमों और अनुभवों का पालन करना होगा |
2 .दरअसल सफलता का कोई शोर्टकट रास्ता नही है और न ही कोई सीक्रेट है ,वहीँ यदि आप जो करना या पाना चाहते है उसमे ध्यान केंद्रित करते है और उसको करने के लिए जी जान से जुट जाते है तो आपको सफलता जरूर प्राप्त होगी  | वहीँ प्रेरणा आपको उस रास्ते तक पहुँचने और उसका डटकर सामना करने और असंभव को संभव बनाने हेतु अग्रसर करता है ठीक उसी प्रकार जैसे की एक शिक्षक आपको केवल कुछ ज्ञान दे सकता है लेकिन जिंदगी मैं बहुत कुछ आपको खुद से ही सीखना होगा ठीक उसी प्रकार प्रेरणा लेकर आप उस कार्य मैं सफल होने की राह मैं अग्रसर होते है |
3. दरअसल हमारे अनुभव हमारे वातावरण के अनुसार हर किसी पर लागू नही होते | अलग सोच केवल अलग तरह की ही सोच रखती है | जबकि बहुत से लोग अपने जीवन और परिस्थिति से उठकर कुछ करना चाहते है वही कई लोग अपनी वर्तमान अवस्था मैं ही खुश होते है | लेकिन जो व्यक्ति एक अलग सोच के साथ दुनिया को बदलने की ताकत रखता है | वही व्यक्ति अपने जीवन मैं सफलता का स्वाद चख पाता है |
4. दरअसल हर व्यक्ति आपकी तरह नही होता | जिस तरह आप सोचते है | बैसा हर कोई नही सोचता इसका सीधा सीधा मतलब आपके जैसा न होने से है और अगर आप ऐसे लोगो को कुछ बताना चाहते है तो वो आपकी बात सुनेगा तो जरूर पर उसका अपने जीवन मैं अनुसरण नही कर पायेगा | और जबकि वह उसका अनुसरण ही नही कर पायेगा तो आगे कुछ होने की बात तो कह ही नही सकते |


आपको यह लेख कैसा लगा comment के माध्यम से जरूर बताएं

No comments:

Post a Comment